कर्मचारियों की हड़ताल के चलते बैंकों में कामकाज ठप

0
103


देहरादून (ब्यूरो)- अपनी विभिन्न मांगों को लेकर आन्दोलनरत सरकारी बैंक के कर्मचारियों ने मंगलवार को देहरादून के परेड ग्रांउड में हड़ताल करते हुए केन्द्रीय सरकार के खिलाफ नारेबाजी करते हुए अपना रोष व्यक्त किया। बता दें कि अपनी विभिन्न मांगों को लेकर बैंक के कर्मचारियों ने देहरादून के परेड ग्रांउड से लेकर गांधी पार्क तक रैली निकाली। उत्तराखंड के 2200 से ज्यादा शाखाओं के 12000 कर्मचारी सहित 10 लाख बैंक कर्मचारी एक दिवसीय हड़ताल में शामिल हुए, जिसमें बैंकिंग से जुड़ी सात मुख्य यूनियन भी शामिल हैं।

बैंकों का नियमित काम बाहरी स्रोतों से कराए जाने, बैंकिंग क्षेत्र के नौ श्रमिक संघों की प्रतिनिधि संस्था, युनाइटेड फोरम ऑफ बैंक यूनियन्स ने सरकार के जनविरोधी बैंक सुधारों के खिलाफ और नोटबंदी के दौरान बैंक कर्मचारियों द्वारा किए गए अतिरिक्त कार्य के मुआवजे और साथ ही बैंक कर्मियों ने सरकार से बैंक में पांच दिवसीय कार्य, ग्रेच्यूटी एक्ट के अंतर्गत उपदान की सीमा बढ़ाने और कर मुक्त बनाने आदि की मांग को लेकर बैंक कर्मचारियों में आक्रोश बढ़ा है जिस कारण वह अपनी मांगों को लेकर यूनाईटेड फोरम ऑफ बैंक यूनियंस से जुड़े बैंक कर्मचारी आज हड़ताल पर हैं।

सरकार की जन विरोधी नीतियों, ट्रेड यूनियनों के अधिकारी समाप्त करने नोटबंदी के दौरान बैंक कर्मियों को उचित मुआवजा न दिए जाने आदि के खिलाफ बैंक कर्मचारी मुखर हैं। एसबीआई अधिकारी एसोसिएशन के उपमहासचिव हरिओम रेखी और यूनियंस के संयोजक जगमोहन मेहंदीरत्ता ने कहा कि केंद्र सरकार ट्रेड यूनियन के अधिकार करने और बैंकों का निजीकरण पर तुली हुई है।

ऋण वसूली के लिए प्रभावी कदम नहीं उठाए जा रहे हैं। बैंक कर्मचारियों ने बढ़ते एनपीए से निपटने के लिए रिकवरी प्रक्रिया तेज गति में अपनाने की मांग की है। बता दें कि हड़ताल में सरकारी क्षेत्र के 19 बैंक और 5 सहयोगी बैंक, नैनीताल बैंक, फेडरल बैंक, कर्नाटक बैंक, जिला सहकारी बैंक, ग्रामीण बैंक शामिल हैं। बैंक कर्मचारियों की हड़ताल के दौरान इंटक के समर भंडारी, सीटू से विरेंद्र भंडारी, रोडवेज से रामचन्द्र रतूड़ी, रवि पचौरी, रेलवे से उग्रसेन, राजेन्द्र गुंसाई, जल निगम से ईश्वर पाल, बिजली कर्मचारी यूनियन से अशोक शर्मा, के. नेगी आदि शामिल थे।

हिंदी समाचार- से जुड़े अन्य अपडेट लगातार प्राप्त करने के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज और आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here