बालू खनन में प्रयुक्त जेसीबी, पोकलेन के विरोध में मजदूरों ने अपने दो वक्त की रोटी के लिए योग दिवस पर किया प्रदर्शन

0
79

सोनभद्र(ब्यूरो)- सूबे में सत्ता परिवर्तन के बाद नई सरकार और खनन में नई नीति ई टेंडरिंग के दौरान चालू हुए बालू खनन में क्षेत्र के पूर्व में जुड़े परंपरागत खनन मजदूरों में काफी निराशा है| इसका मुख्य कारण बालू की साइड पर मजदूरों को दरकिनार कर पोकलेन व जेसीबी जैसी मशीनों से खनन और परिवहन के लिए ट्रकों पर लोडिंग की जा रही है| जिसके परिपेक्ष में आज क्षेत्र के मजदूरों ने अपनी एकता का परिचय देते हुए चोपन के सिंदुरिया महलपुर पुल पर इकट्ठा होकर घंटों प्रदर्शन किया गया ।

बालू खनन साइड महलपुर पुल पर प्रदर्शन और सरकार विरोधी नारों के बीच मजदूरों का कहना है कि आज मोदी और योगी की सरकार पूरे देश में योग दिवस मना रही है और हमारे जनपद में आज पूरे सुबे की खनन राज्य मंत्री योग के कार्यक्रम के मुख्य अतिथि भी हैं । यहां हम मजदूर अपने और अपने बाल बच्चों के पेट के लिए दो वक्त की रोटी के लिए परेशान हैं ऐसा हम हमारे लिए सरकार का योग दिवस हम सब के लिए बेईमानी है ।

प्रदर्शन के दौरान भारी संख्या में महिलाएं और नौजवान भी शामिल रहे जो सरकार की इस व्यवस्था से काफी नाराज रहे, मजदूरों का आक्रोश देखते ही बन रहा था| उनका कहना है कि शासन-प्रशासन अगर पोकलैंड जेसीबी से लोडिंग और खनन कार्य नहीं बंद कराती है तो हम मजदूर किसी भी स्थिति में उग्र आंदोलन का रुख अख्तियार करेंगे, जिसकी जिम्मेदारी स्वयं शासन प्रशासन की होगी ।

इस मौके पर पहुंचे खेत खलियान मजदूर के नेता वेदप्रकाश दुबे ने मजदूरों को सही तरीके से आंदोलन करने को और तेज करने की बात कही और मजदूरों के हित में हर लड़ाई को निर्णायक स्तर तक ले जाने की बात दोहराई । मौके पर दीपक, परमेश्वर, सुनील, राम पति, यशोदा, गौरी, जोकड, रामदुलारे, पप्पू, चेरो, लखन, पानपति आदि समेत दर्जनों की संख्या में मजदूर जन मौजूद रहे।

रिपोर्ट- ज़मीर अंसारी

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY