प्रदेश में लगातार हो रहीं बड़ी वारदात, मुख्‍यमंत्री न‍िवास से खुद नजर रखेंगे योगी

0
64

लखनऊ(ब्यूरो)- प्रदेश को अपराधमुक्त प्रदेश बनाने की मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की घोषणा उनके सत्ता संभालने के करीब दो महीने बाद भी फिलहाल जमीन पर उतरती हुई नहीं दिख रही है। राज्य में दो महीने के योगी राज में अब तक करीब दर्जन भर बड़े अपराध की घटनाएं हो चुकी हैं। शायद यही वजह है कि अब मुख्यमंत्री आदित्यनाथ खुद अपराध की घटनाओं पर नजर रखेंगे।

आज तक पर भाजपा प्रवक्ता गौरव भाटिया ने कहा कि प्रदेश में अपराध की घटनाओं पर निगरानी के लिए मुख्यमंत्री खुद उस पर नजर रखेंगे। उन्होंने बताया कि इसके लिए सीएम आवास में विशेष तरह की निगरानी व्यवस्था स्थापित की जा रही है।

इसके तहत सभी जिलों के पुलिस कप्तान वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए सीधे सीएम आवास से जुड़े होंगे। उन्होंने कहा कि सुधार के क्रम में ही सरकार ने 626 दागी पुलिस अफसरों का तबादला किया है
चैनल पर बहस के दौरान समाजवादी पार्टी के प्रवक्ता और बीजेपी प्रवक्ता के बीच खूब तीखी नोकझोक हुई। चर्चा में शामिल पूर्व डीजीपी विक्रम सिंह ने कहा कि राज्य में कानून व्यवस्था को पटरी पर आने में करीब तीन महीने का वक्त लेगा।

इस पर कांग्रेस प्रवक्ता पी एल पुनिया ने विक्रम सिंह पर भाजपा प्रवक्ता की तरह बयान देने का आरोप लगाया। लगे हाथ उन्होंने कहा कि जब तक सरकार अधिकारियों को काम करने की छूट नहीं देगी तबतक अपराध पर लगाम लगाना मुश्किल होगा

गौरतलब है कि सत्ता संभालते ही सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा था कि अपराधी यूपी छोड़ दें या अपराध छोड़ दें लेकिन न तो अपराधियों ने यूपी छोड़ी और न ही उन लोगों ने अपराध छोड़ी। सोमावार (17 मई) को 8 नकाबपोश अपराधियों ने मथुरा में एक ज्वैलरी शॉप में पिस्टल की नोक पर न केवल 4 करोड़ की ज्वैलरी लूटपाट को अंजाम दिया बल्कि विरोध करने पर दो लोगों की हत्या कर दी और दो लोगों को गोली मारकर घायल भी कर दिया।

विधानसभा में जब विपक्षी नेताओं ने इस पर सरकार को घेरा तो सीएम ने डीजीपी को फटकार लगाते हुए तुरंत मामले की जांच करने का निर्देश दिया|

दरअसल, यूपी विधान सभा चुनाव में कानून-व्यवस्था एक अहम मुद्दा था। लोगों ने सपा सरकार में बिगड़ती कानून व्यवस्था से अंसतुष्ट होकर भाजपा सरकार को चुना था लेकिन पिछले कुछ हफ्ते में यूपी में अपराध की घटनाओं पर रोक लगने की बजाय उसमें इजाफा ही हुआ है|

रिपोर्ट-मिंटू शर्मा 

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY