योगी राज में महिला उत्पीड़न का फरमान हुआ बेअसर, नगर कोतवाल पंकज वर्मा ने कोतवाली से भगाया

0
87


सुल्तानपुर ब्यूरो : उत्तर प्रदेश की सत्ता बदली और बदले निजा़म लेकिन अगर नहीं बदलती दिखी तो वो रही अफसरशाही व खांकी के बेलगाम नुमाइंदे । प्रदेश के आला वज़ीर लाख कोशिशें कर लें या फिर दलीलों के पुल बांध ले लेकिन खांकीधारी हैं कि वो निजाम की बातों को ज़मीनी रुप पर लागू करने को कतई नहीं राजी दिख रहे हैं । बताते चलें की ताजा मामला कोतवाली नगर थाना क्षेत्र के डिहवा इलाके का है जहाँ के रहने वाले शहजाद की शादी शालिया परवीन से गत 15 वर्ष पूर्व विवाह हुआ और किसी बात को लेकर पति – पत्नी में विवाद हुआ जिसको लेकर कल देर रात शालिया परवीन की ससुरालीजनों ने जमकर पिटाई कर दी और घर से बाहर का रास्ता दिखला दिया । जिसको लेकर पीड़िता ने न्याय की गुहार नगर कोतवाल से लगाई और आखिरकार कोतवाल ने महिला को बैरंग वापस कर दिया । जिसको लेकर आज पीड़िता अपना व अपनी 12 वर्षीय पुत्री के कपड़े लेने पहुंची जिसको ससुराल पक्ष के लोगों ने फिर से जमकर पीट दिया जिसकी सुचना 100 नम्बर पर पहुंचने के बाद डायल 100 व 108 के माध्यम से पीड़िता को गम्भीर हालत में जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया, जिसकी हालत नाज़ुक बताई जा रही है ।

विश्वस्त सूत्रों की मानें तो अभी हाल में कोतवाली नगर क्षेत्र इलाके से डायल 100 की सुचना पर एक जेसीबी मशीन को डायल 100 के दो सिपाहीयों ने पकडा़ था । जिसका चालान एमवी एक्ट में कर के गाड़ी पुलिस लाईन में जमा कर दी गयी व पुलिस अभिलेखों में दाखिल करा दी गयी और एक रिपोर्ट बनाकर एसडीएम सदर कार्यालय को भेज दी गयी । मजे की बात तो यह है कि बिना अवैध खनन की कार्यवाही रिपोर्ट के आए ही गाड़ी एमवी एक्ट में रिलीज हो गयी , और बिना कोतवाली में कागज़ी दस्तावेज कार्यवाही किए गाड़ी छोड़ दी गयी तब से गाड़ी व संचालक का कहीं चिन्हांकन नहीं किया जा सका । फिलहाल यह विवादित प्रकरण उच्चाधिकारियों के संज्ञान में भी  गया लेकिन कार्यवाही के नाम पर योगी राज को दिखाया गया ठेंगा ।

रिपोर्ट – दीपक मिश्र

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY