संदिग्ध परिस्थितिओं में युवक की मौत

0
214

प्रतापगढ़(ब्यूरो)– जनपद प्रतापगढ़ के अंतर्गत कोतवाली मानधाता क्षेत्र के चघईपुर गांव में होली के ठीक दूसरे दिन देवेश उर्फ रोहित सिंह पुत्र नरेंद्र सिंह को कल गांव के ही निर्भय सिंह ने दो तीन बार रोहित सिंह के पिता के मोबाइल पर बात करके बुलाने को कहा और रोहित सिंह के पिता ने कहा कि मैं गांव के कोटे की दुकान पर हूं | जैसे ही रोहित के पिताजी अपने घर पहुंचे तुरंत फिर फोन आया और नरेंद्र सिंह ने अपने पुत्र देवेश उर्फ रोहित को फोन दे दिया रोहित और निर्भय की क्या बात हुई या तो निर्भय जाने या मृतक रोहित सिंह बस फोन पर बात हुई कि घर में स्नान करके Discover मोटरसाइकिल से रोहित सिंह तुरंत रवाना टेकई का पुरवा बड़की खरवई हरिजन बस्ती जा पहुंचे वहाँ क्या हुआ या रोहित जाने या निर्भय, रोहित के पिता या परिवार को क्या मालूम? बाद में गांव की पूर्व प्रधान एवं अन्य महिलाओं ने रोहित के पिता को बताया कि रोहित को किसी ने गोली मार दिया है| जहां पर घटना घटी वह जगह रोहित के घर से लगभग 2 किलोमीटर दूरी पर है|

घटना को सुनते ही पूरे परिवार एवम गाव मे कोहराम मच गया | लोग घटनास्थल की तरफ भाग कर गए और इससे पहले वो कुछ समझ पाते तब तक बस्ती में किसी ने आग लगाकर बस्ती को आग के हवाले कर दिया| बस्ती जलने लगी तब तक किसी व्यक्ति ने आनन-फानन में 100 नंबर डायल कर दिया और पुलिस को सूचना दे दिया जब तक वहां पुलिस पहुंच पाती तब तक घटनास्थल का नजारा दूसरा हो चुका था स्थिति बिगड़ चुकी थी घटनास्थल पर भारी फोर्स के अलावा दो सेक्शन पीएसी कई थानों की फोर्स SDM रानीगंज डीएम प्रतापगढ़ डा ० आदर्श सिंह रोहन पी कनय यस पी प्रतापगढ़ डीआईजी रेंज इलाहाबाद मौके पर पहुंचकर घटनास्थल का मुआयना किया|

शव को अपने कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए जिला मुख्यालय भेज दिया गया| पोस्टमार्टम हो जाने के बाद देवेश उर्फ रोहित सिंह का शव उनके पैतृक निवास चघईपुर पहुंचते ही कोहराम मच गया | देवेश की बहन देवेश की बॉडी से लिपटकर रोने चिल्लाने लगी| रोहित की माता स्वर्गीय संगीता सिंह 15 साल पहले इस दुनिया को छोड़कर चली गई थी| रोहित सिंह को एक बहन है जिसका नाम अंकिता सिंह (आयु 20 वर्ष) है| अंकिता की शादी उनके पिता नरेंद्र सिंह के द्वारा इलाहाबाद जनपद के करछना क्षेत्र में तय हुई थी| 3 दिन पहले अंकिता की शादी पक्की होने की रस्म पूरी की गई थी| रोहित सिंह अपने मां बाप में अकेली औलाद थी| नरेंद्र सिंह के परिवार का चिराग बुझ गया है, अब उनके लिए इस दुनिया में सहारा नाम की कोई चीज नहीं है| नरेंद्र सिंह के एक भाई और हैं जिनका नाम विनोद सिंह है| विनोद सिंह की पत्नी खुशबू सिंह हैं, इनको एक पुत्र सोई केस सिंह उम्र 10 वर्ष तथा बहन अंशिका सिंह उम्र 8 वर्ष है| घर पर मातम छाया हुआ है रोहित सिंह का शव आज अंतेष्टि के लिए रसूलाबाद घाट इलाहाबाद जनपद में ले जाया जाएगा|

पुलिस का कहना है कि देवेश उर्फ रोहित इलाहाबाद जनपद के नवाबगंज थाना क्षेत्र में एक लूट के मामले में अभियुक्त था| वह अभी जेल से छूट कर आया था और बाहर रह रहा था| होली करने के लिए घर पर आया था| दूसरी तरफ घटनास्थल पर दो सेक्शन पीएसी के जवानों के अलावा सिविल पुलिस स्थानीय पुलिस गांव में डेरा डाले हुए हैं| पुलिस तहकीकात कर रही है और मुलजिमों की तलाश कर रही है| अब देखना यह है कि इस हत्या के मामले में अब क्या होता है? फ़िलहाल स्थिति सामान्य है| परिजन शव को लेकर दाह संस्कार के लिए इलाहाबाद गए हैं घर पर मातम छाया हुआ है वहीं दूसरी ओर हरिजन बस्ती के बच्चे महिलाएं पुरुष सब घर छोड़कर फरार हैं| पुलिस व पीएसी की निगरानी में हर स्थिति से निपटने के लिए हर संभव प्रयास प्रशासन की नजरें मानधाता थाना के उस घटना स्थल पर बनी हुई है| इस घटना में हरिजन बस्ती में आगजनी के अलावा निर्मला पत्नी राम पाल हरिजन उम्र 65 वर्ष को भी गंभीर चोटे आई हुई है| इनका इलाज जिला मुख्यालय के सरकारी हॉस्पिटल में चल रहा है| इनकी भी हालत गंभीर बनी हुई है, हरिजन बस्ती के बगल मृतक देवेश सिंह उर्फ रोहित सिंह के परिवार की खेती लगभग 7 बीघा हरिजन बस्ती से मिली हुई है|

रिपोर्ट- अवनीश कुमार मिश्रा

हिंदी समाचार- से जुड़े अन्य अपडेट लगातार प्राप्त करने के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज और आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं |

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY