पुलिस अभिरक्षा में पिटाई से युवक की हालत गंभीर

0
81

रायबरेली(ब्यूरो)- योगी सरकार के लाख प्रयास के बाद भी पुलिस की कार्यषैली में कोई बदलाव नजर नही आ रहा है। पुलिस अपनी कार्यप्रणाली से आये दिन चर्चा में रहती है। ताजा मामला ऊंचाहार कोतवाली का है। यहां पर तैनात कोतवाल अपनी विवादित कार्यशैली के कारण कई दिनो से चर्चा मे बने हुए है। पिछले बुधवार पहले एक महिला की चाकू मार कर हत्या कर दी गयी थी।जिसमें पुलिस दो लोगो को पकड़ कर थाने ले आयी थी। चार दिनो से पुलिस उनकी पिटाई कर जबरदस्ती उनसे अपराध कबूलवाना चाह रही थी ।

महिला हत्याकांड मे पूंछतांछ के लिए अभिरक्षा मे लिए गए युवक को इतना पीटा गया कि वह मरणासन्न हो गया और पुलिस उसे सीएचसी मे फेंक आयी । सुबह जब प्रमोद पाण्डेय के परिजन उसको खाना देने के लिए थाने आये तो उसको थाने में न पाकर पूछताछ शुरू की तो बताया गया कि तबियत खराब होने के चलते सीएचसी में भर्ती करा दिया गया है। प्रमोद की हालत गम्भीर देख उसके परिजन उसको एनटीपीसी ले आये। जहाँ उसकी गंभीर हालत देख डाक्टरों ने उसे लखनऊ ट्रामा सेंटर रिफर कर दिया गया।

मामला बुधवार रात का है। एक मई को क्षेत्र के गाँव नजनपुर मे महिला कल्पना की चाकू से गोदकर हत्या कर दी गयी थी। पुलिस ने इस हत्याकांड मे मृतका के पुरुष मित्रो को हिरासत मे लिया था। जिसमें एक तारीख को ही रात मे क्षेत्र के बरसवा निवासी युवक प्रमोद पाण्डेय पुत्र राम नारायन को पुलिस ने हिरासत मे लिया था।

प्रमोद की पत्नी शीला देवी का आरोप है कि पुलिस उसे लगातार अमानवीय तरीके से प्रताड़ित कर रही थी। उसे खाना भी नहीं दिया गया। महिला का आरोप है कि पुलिस ने उसके पति को छोड़ने के लिए एक लाख रुपये की मांग की और उसने चालीस हजार रुपये पुलिस को दिये थे लेकिन 60 हजार रुपये की मांग की जा रही थी। उसके बाद बुधवार की रात प्रमोद को इतना पीटा गया कि वह अचेत हो गया। पुलिस ने जब उसकी यह दशा देखी तो सबके हाथ पाँव फूल गए और वह तुरंत उसको सीएचसी ले गयी और वहाँ उसको भर्ती कराकर चले आए। लावारिस अवस्था में प्रमोद का सीएचसी मे रात भर इलाज चलता रहा। गुरुवार सुबह जब प्रमोद के परिजन उसके लिए खाना लेकर कोतवाली पहुंचे तो उनको बताया गया प्रमोद यहाँ नहीं है।

परिजन उसको खोजते सीएचसी पहुंचे तो वहाँ डाक्टरों ने उसकी गंभीर दशा को देखते हुए उसको रेफर कर दिया। उसके बाद प्रमोद को उसके परिजन एनटीपीसी चिकित्सलय ले गए। वहाँ पर डाक्टरों ने उसकी दशा को देखा तो दंग रह गए। वहाँ भी उसकी गंभीर दशा को देखते हुए उसे ट्रामा सेंटर रेफर कर दिया गया। परिजन उसको लेकर लखनऊ गए है । अब इस मामले मे कोई अधिकारी कुछ बोलने को तैयार नहीं है। एसपी गौरव सिंह ने बताया कि मामले की जाँच के लिए सीओ डलमऊ से करायी जा रही है।

रिपोर्ट- राजेश यादव

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here